चौथी दुनिया

चौथी दुनिया का सच

तीसरी दुनिया के देशों में एक चौथी दुनिया भी है जिसकी आवाज़ कभी-कभी ही सरकार और मुख्य-धारा के लोगो को सुनाई देती हैं।अक़सर इनकी आवाज़ बाज़ारवाद और झूठे प्रचार के तिलिस्म में ग़ायब हो जाती हैं।

भारत में भी ये बात सोलह-आने सही है। मोदी सरकार भारत के विकास की फ़िल्म के चित्रों में केवल उच्च और मध्यम वर्ग के लोगों को ही तरजीह दे रही है।चौथी दुनिया में आने वाले गरीब, मजदूर, छोटे किसान, दलित, आदिवासी और संविदाकर्मियों के  पात्र इस पूरी पटकथा में कहीं नज़र नहीं आते।

दुनिया को बढ़ते भारत की छद्म तस्वीर दिखाई जा रही है जिसमे से असली भारत गायब है।

बेरोजगारी, भुखमरी, कुपोषण में भारत अपने पड़ोसियों से भी बदतर स्थिति में है।किसान आत्महत्या करने पर मजबूर हैं। वोटबैंक के ध्रुवीकरण के लिए धार्मिक उन्माद का सहारा बनाया जा रहा है।

इस घमासान के बीच न तो सरकार और न ही मीडिया को चौथी दुनिया के बारे में सोचने का समय है।जहाँ एक ओर सरकार केवल मध्यम वर्ग और उच्च वर्ग के हितों को सर्वोपरि रख और गरीब और शोषित लोगो को दरकिनार कर नीतियाँ बना रही है वहीँ दूसरी ओर धनतेरस और अक्षय तीज़ जैसे त्योहारों को भुना बाज़ारवाद की इस वैदेही में मीडिया भी भाव-विभोर हो गोते लगा रहा है।


अपने बच्चों को भर-पेट खाना खिला पाना ही इन लोगो की होली-दीवाली है पर कभी न कभी तो इनकी नज़र अखबारों में   छपी भारी-भरकम आभूषण पहने उस लड़की पर पड़ ही जाती होगी जो विकसित भारत का लिपा-पुता चेहरा है।

अश्वनी राघव

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s