देशभक्ति का सर्टिफिकेट

देशभक्ति का सर्टिफिकेट

कुछ समय से देशभक्ति का प्रमाणपत्र खूब धड़ल्ले से बँट रहा है।अगर आपको भी चाहिये तो बस सोशल साइट्स पर दो-चार बार लिख दीजिये कि जो लोग नोटबंदी पर सवाल उठा रहे हैं वो देश द्रोही हैं। पर धयान रखें कि देशभक्ति का प्रमाणपत्र मिलना इतना भी आसान नहीं है जितना आप समझ रहे हैं, विषय हर पंद्रह दिन बाद बदल जाता है। थोड़े दिन पहले भोपाल एनकाउंटर था उससे पहले सर्जिकल स्ट्राइक और अब नोटबंदी, हाँ गौमाता अब आउटडेटिड हो चुकी हैं।

किसी भी मुद्दे को देशभक्ति की चाशनी में लपेटकर भुनाने की राजनीति आज कल अपने चरम पर है और कुछ विशेषज्ञ नेताओ की इसमें  मास्टरी हो गई है।इस राजनीति की विशेषता ये है कि इसमें विपक्षी दल कुछ ज्यादा बोलने की स्थिति में नहीं रहते क्योंकि उन्हें खुद को देशद्रोही कहकर प्रचारित करने का डर होता है।

इस परिस्थिति में सत्ताधारी दल खुद तो जमकर राजनीति करता है पर विपक्ष पर आरोप लगाता है कि वो देशहित के मुद्दे पर राजनीति कर रहे हैं। राजनीति न करने की ये राजनीति आजकल सुपरहिट हो रही है।अभी हाल ही मैं मोदी सरकार द्वारा की गई नोटबंदी की ख़ामियों को दबाने के लिये भी इसी सफ़ल फॉर्मूले का प्रयोग किया जा रहा है।

विशेषज्ञों की राय है कि यदि बड़े डिफॉल्टर्स पर समय रहते शिकंजा  कस लिया जाता तो आम आदमी को दिहाड़ी छोड़ ऐसे घंटो लाइनों में नहीं लगना पड़ता।नोटबंदी के जाल में बड़ी मछलियाँ तो नहीं फँसी पर आम जनता जरूर बैंक और एटीएम के चक्रव्यूह में फँस गई।अगर बर्बाद हो रहे श्रम घंटो का हिसाब लगाया जाये तो ये रक़म अरबो में होगी।

जाहिर है कि नोटबंदी का ऐलान बिना किसी तैयारी के किया गया है।नोटों की कमी और एटीएम में ख़राबी ऐसी दो कमियां हैं जिन्हें ठीक किया जा सकता था। पर धैर्य के साथ अपनी बारी का इंतज़ार  कर रहे काले-धन वाले को बुरा तब लगा जब सोशल साइट्स पर ख़बर आई कि कुछ महत्वपूर्ण लोगो को नोटबंदी की सूचना पहले ही दे दी गई थी। कोलकाता की बीजेपी इकाई द्वारा नोटबंदी से कुछ घंटे पहले बैंक में जमा की गई राशि की खबर न जाने फेसबुक पर किस देशद्रोही ने डाल दी। चलो उससे तो देर-सबेर निपट ही लिया जाएगा पर नोटबंदी से हुई हड़बड़ी में कई लोग मर गए 

कई लोग ईलाज़ के लिये तरस गए और कइयों की शादी नहीं हो पाई पर कोई बोलेगा नहीं क्योंकि उन्हें पता है कि उनके कुछ बोलते ही उनका देशभक्ति का प्रमाणपत्र एक्सपायर हो जायेगा।
अश्वनी राघव

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s