स्वार्थ की राजनीति

स्वार्थ की राजनीति

आ रही खबरों के अनुसार भारतीय सेना ने पहले भी कई सफ़ल स्ट्राइक्स की हैं पर जिस तरह से इस बार इसका महिमा-मंडन हो रहा है ये चिन्ता का विषय है। सर्जिकल स्ट्राइक एक सीमित अभियान होता है जिसमे ये ख्याल रखा जाता है कि ये अभियान दोनों देशो के बीच में युद्ध की स्थिति न पैदा करे।

भारतीय सेना पर हर हिन्दुस्तानी को नाज़ है।पर जिस तरह से इस स्ट्राइक के बाद राजनीतिक दलों में सियासी फायदा लेने की कोशिश की है वो चिन्ता का विषय है।

बीजेपी ने लखनऊ, आगरा, मुजफ्फरपुर और अन्य शहरों में मोदी सरकार को बधाई देते हुए जो पोस्टर लगाएँ हैं उनमे अमित शाह, राजनाथ सिंह, मनोहर पर्रिकर की फोटो के साथ पाकिस्तान को सबक सिखा देने की बात कही गई है।इन पोस्टर में मोदी को भगवान राम, नवाज़ शरीफ को रावण और विपक्षी दलों के नेताओं को मेघनाद के रूप में दिखाया जा रहा है जिससे साफ़ होता है कि बीजेपी आने वाले उत्तर प्रदेश के चुनावों में सर्जिकल स्ट्राइक का सियासी फायदा उठाना चाहती है।

दूसरी तरफ विपक्षी दलों की  मज़बूरी ये है कि वे सियासी फायदे के लिए इस्तेमाल की जा रही सैनिक कार्यवाही का विरोध खुलकर नहीं कर सकते क्योंकि ऐसा करने पर उनकी राष्ट्रभक्ति कमतर आँकी जा सकती है वहीँ दूसरी तरफ सेना का मनोबल भी गिरेगा।

सत्ताधारी पार्टी हर मुद्दे को देशभक्ति की चाशनी में लपेटकर ऐसा माहौल बना देती है जिससे राजनीति करने का मौका सिर्फ उसी को मिले और विपक्ष द्वारा विरोध करने की स्थिति में उसपर राजनीति करने का आरोप लगा दिया जाता है।

सेना की जिस साहसिक कार्यवाही की तारीफ़ राजनीति से ऊपर उठकर की जानी चाहिए थी उसे राजनीतिक दलों ने तमाशा बना दिया है।सिर्फ सियासी फायदे के लिए हर आदर्श को ताक पर रखती ये राजनीतिक पार्टियाँ दुनिया की सबसे बड़ी लोकतान्त्रिक व्यवस्था को शर्मसार कर रही हैं।कहीं न कहीं इन सत्ता लोलुप पार्टियों पर लग़ाम लगाने की ज़रूरत है।

अश्वनी राघव

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s